IT App Info

App Info, Application Details, Mobile Apps, New Applications, New Software, IT information, New Mobile Application Info.

शुक्रवार, 11 दिसंबर 2020

Facebook Password Kaise Hack Ho Sakta Hai ?

Facebook Password Kaise Hack Ho Sakta Hai?
Facebook Password

Facebook password ke baare me :


     हेलो दोस्तों, क्या आपने कभी सोचा है, की Facebook Password Kaise Hack Ho Sakta Hai…? और आपकी एक छोटी सी गलती आपके अकाउंट को हैक कर सकती है... इसलिए सिक्योरिटी के लिए आपको यह जानना बहुत ही जरुरी है, की आखिर में हैकर किस तरह से आपके पासवर्ड को हैक कर लेता है। तो यह माहिती आपको बताने जा रहा हूँ.

 

     तो दोस्तों जब भी आप किसी वेबसाइट में या किसी एप्लीकेशन में अकाउंट बनाते हो वही पर आप रजिस्टेशन करते हो तो आपको सिम्पल से एक फॉर्म भरने के लिए दिया जाता है, जहाँ पर आप अपना नाम, Email ID, मोबाइल नंबर, और पासवर्ड भर कर आपका खुद का अकाउंट बना लेते है। यह आपकी जो सभी माहिती है वह मूलरूप से वेबसाइट या एप्लीकेशन के सर्वर पर स्टोर हो जाती है.

 

     तो यहाँ पर आपने नोटिस जरूर किया होगा, की पासवर्ड होता है वही पर हमेशा **** ऐसा दीखता है, तो यह सबसे महत्वपूर्ण पार्ट होता है, यह हम सभी जानते है। क्योंकि एक बार अगर कोई पासवर्ड किसी को मालूम हो गया, तो वह बहुत आसानी से आपके अकाउंट को चला सकता है, और हैक कर सकता है।


     इसे भी पढ़े : गूगल के कुछ महत्वपूर्ण टिप्स

 

     तो यहाँ पर एक सवाल जरूर होता है, की आखिर में जो कोई वेबसाइट या एप्लीकेशन के मालिक है वह हमारे पासवर्ड को सिक्योर करने के लिए क्या करते है...? तो यहाँ पर ज्यादातर लोग Hash Algorithm का इस्तेमाल करते है तो आप कहेंगे की यह Hash Algorithm होता क्या है...?

 

Hash Algorithm kya hota hai...?

 

     तो दोस्तों, Hash Algorithm एक ऐसी Method है जहां पर एक इनपुट मैसेज या इनपुट टेक्स्ट को एक Mathematical Function के जरिये एक टेक्स्ट में कन्वर्ट किया जाता है जो आपको देखने में बिलकुल एक Key की तरह दीखता है, इस टेक्स्ट में आपको नंबर्स और लेटर्स दिखने को मिलेगा। जिस मेसेज या टेक्स्ट को आप विशिष्‍ट कोड में ट्रान्सफर करना है Hash Value में कन्वर्ट करना है, उसे मूल रूप से इनपुट कहते है, उसके बाद जो प्रोसेस होता है जिसके लिए जो Mathematical Function का इस्तेमाल किया जाता है उसे Hash Function कहा जाता है, इसके बाद हमें आखिर में जो परिणाम मिलता है जो हमें देखने में एक Key जैसा दिखाई देता है उस Key का साइज फिक्स होता है उसे Hash Value कहा जाता है।

 

     अब यहाँ पर Hash Value का इस्तेमाल करने के लिए कई सारे Algorithm (कलन विधि) का इस्तेमाल किया जाता है। या फिर कई सारे Mathematical Function का इस्तेमाल किया जाता है। मान लीजिए Password@123 यह आपने एक इनपुट पासवर्ड का टेक्स्ट लिख कर इनपुट किया, अब Hash Algorithm की मदद से गुजारेंगे तो यहाँ पर Mathematical Function का इस्तेमाल करके केल्क्युलेशन किया जाएगा, और उसके बाद ऐसे फिक्स Key में कन्वर्ट किया जाएगा जो आपको देखने में कुछ इसतरह (2138cb5b0302e84382dd9b3677576b24) की Key देखने को मिलती है। मतलब के आपके पासवर्ड के टेक्स्ट को Hash Algorithm से इस तरह से कुछ Key में रूपांतरित हो जाती है। जिसे हम Hash Value कहते है। इस Key का जो साइज है वह फिक्स होता है, भले ही आपका पासवर्ड का टेक्स्ट कितना भी लंबा हो, यह Hash Value की साइज इतनी ही रहती है.

 

     तो अब इस Hash Value को टेक्स्ट में कन्वर्ट करना संभव नहीं है, भले ही बड़े से बड़े हैकर क्यों ना हो वह मालूम नहीं कर सकता...


     इसे भी पढ़े : गूगल डॉक्युमेंट से होता हुआ साइबर क्राइम

 

     जब आप किसी वेबसाइट तथा एप्लीकेशन में अपने खुद का अकाउंट बनाते हो तब फॉर्म में आपका नाम, मोबाइल नंबर, Email ID, बर्थ डेट, सभी माहिती उसके सर्वर में सेव होती है, लेकिन पासवर्ड उसके सर्वर में सेव नहीं होता आप किसी पासवर्ड को लिखते है तो वह पहले Hash Algorithm से Hash Value निकाल कर वह Key को उसके सर्वर पर सेव करेगा। आपने जो पासवर्ड में टेक्स्ट लिखा है उसे नाम, मोबाइल नंबर, Email ID की तरह नहीं करेगा. तो जो कोई भी वेबसाइट या एप्लीकेशन के मालिक के पास वह Key ही उसके पास होती है, तो यह  Key से पासवर्ड जानना वेबसाइट या एप्लीकेशन के मालिक के लिए भी असंभव है।

 

     तो दोस्तों, हैकर ने किसी जुगाड़ से या हैकिंग स्किल से किसी तरह से आपका यूजर नाम और सर्वर से Hash Value या पासवर्ड को चुरा लिया, तो ऐसे में हैकर के पास आपका यूजर नाम और Hash Value चला जाएगा। अब हैकर इस यूजर नाम और Hash Value से लोग इन करने की कोशिश करेगा तो वह लोगइन नहीं होगा। अब वह हैकर Hash Value जानने के लिए Rainbow Tables का इस्तेमाल करेगा।

 

Rainbow Tables kya hota hai...?

 

     अगर आपको हैकिंग में थोड़ी सी भी रूचि है तो आपको यह Rainbow Tables के बारे में जानते होंगे. तो दोस्तों, यह Rainbow Tables तो यह ऐसा टेबल है जिसमे जितने भी सामान्य तथा सिम्पल पासवर्ड होते है, जिसे तोड़ना बहुत आसान होता है तो यही सामान्य पासवर्ड के साथ Hash Value भी  Rainbow Tables में रेकॉर्ड होता है,  तो हैकर यह Rainbow Tables की मदद से आपके पासवर्ड को तोड़ने की कोशिश करेगा। हैकर आपके अकाउंट की ID डाल कर उसका पासवर्ड  Rainbow Tables में जितने भी Hash Value की लिस्ट है, उनको मिला कर देखेगा। और आपके अकाउंट का पासवर्ड तोड़ ने की कोशिश करता है। मतलब, हर एक शब्दों का Hash Value जानने लिए ऐसे ही कोई पासवर्ड रखा, मानलो की bharat@12345 डाल कर उसकी Hash Value चेक किया और इसकी Hash Value 2138cb5b0302e84382dd9b3 दिखाई, तो अब यह जो Hash Value है उसे Rainbow Tables में देखेगा की, किस से यह Hash Value मिलती जुलती है…? तो जिसका भी यह Hash Value मिलता है, उसमे अनुमान लगा कर हैकर आपका पासवर्ड तोड़ सकता है।

 

Hacker Kaise Dictionary Attack Or Brute-Force Attack ka istemal karte hai...?

 

     अगर हैकर से Rainbow Tables में जो Hash Value की लिस्ट में अगर कोई Key नहीं मिलता तो अब वह दूसरे तकनीक का इस्तेमाल करेगा, जैसे की Dictionary Attack तथा Brute-Force Attack की जरिए हैक करने की कोशिश करेगा। इसमें एक शब्दों की लिस्ट तैयार की जाती है, जहाँ पर पहले से ही कई सारे शब्दों के पासवर्ड होते है और उनका Hash Value भी होता है, अगर हैकर को पता है की इस तरह का पासवर्ड रखते हो और उसको थोड़ा सा भी आईडिया है तो उसके हिसाब से एक शब्दों की लिस्ट तैयार करेगा। और उस Hash Value को शब्दों के लिस्ट के जरिये मैच करेगा, अगर मैच हो जाता है, तो आपका जो पासवर्ड है, वह हैकर तोड़ पाएगा। अगर इससे भी आपका पासवर्ड तोड़ने में असफल रहा तो वह दूसरा तरीका इस्तेमाल करेगा।


     इसे भी पढ़े : सोशियल मीडिया पर खरीदारी से होता धोखा। 

 

     वह हैकर एक ऐसा Algorithm का तरीका इस्तेमाल करेगा या फिर ऐसा कोई Function बनाएगा, जहाँ पर वह हर एक शब्दों को, हर एक सिम्बोल को, हर एक नंबर को आपस में जोड़ कर वह सभी संभावनाओं को अपना कर जिससे की कोई ऐसा शब्द निकले या फिर नाम निकले जिससे वह Hash Value को मैच कर जाए. तो यहाँ सभी संभावनाओं को अपनाएगा जिससे की उस Hash Value को सिंपल टेक्स्ट में कन्वर्ट कर दे, तो यहाँ पर समान Hash Value को वह उस लिस्ट के जरिये वहां पर पास करवाएगा, अगर उस Hash Value के लिस्ट में जो Key हकीकत में है वह मैच हो जाता है तो ऐसे में हैकर को आपका पासवर्ड मालूम  हो जाता है। तो दोस्तों  हैकर अलग-अलग तकनीक का इस्तेमाल करके आपका पासवर्ड तोड़ने की कोशिश करता है। और अगर ऐसे में आपका पासवर्ड सिंपल है तो हैकर को पासवर्ड बहुत आसानी से पता चल जाता है।  

 

Facebook Password Conclusion :


     इसलिए दोस्तों, आपसे हमेशा कहा जाता है, की आपको सिंपल और शार्ट पासवर्ड का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए. और कभी भी हमारे सभी अकाउंट में समान पासवर्ड नहीं रखना चाहिए. अगर आपका एक अकाउंट का पासवर्ड हैक हो गया तो आपके सभी अकाउंट का पासवर्ड हैक हो जाते है इसलिए सभी अकाउंट का पासवर्ड अलग-अलग रखने में हमें ही फायदा है। इसके आलावा आपको महत्वपूर्ण अकाउंट में Two Authentication पासवर्ड का इस्तेमाल करे। यह आपके अकाउंट को उच्च तरीके से रक्षा करने में मदद करती है। और आपके अकाउंट में खुद का Email ID और मोबाइल नंबर रजिस्टर करके रखे. याद रहे, आपने बैंक में रजिस्टर किया हुआ Email ID और मोबाइल नंबर का इस्तेमाल नहीं करना है. किसी दूसरे नंबर और Email ID बना कर रजिस्टर करना है। ऐसा इसलिए अगर आप किसी समय पासवर्ड भूल जाते है तो यह आपको OTP के जरिए आपको आपका अकाउंट ओपन करने में मदद करेगा, और दूसरा नंबर और Email ID रजिस्टर करने से आपके बैंक अकाउंट की माहिती भी सिक्योर रहेगी।

 

     तो दोस्तों, उम्मीद रखता हूँ की आपके अकाउंट के पासवर्ड की सुरक्षा की जानकारी समझ आ गयी होगी। और इस जानकारी से आप सिक्योर रहेंगे और आपके काम आएगी।

 

     आपका धन्यवाद...। 🙏🙏

मंगलवार, 8 दिसंबर 2020

Top 20 Google Tips & Tricks In Hindi

Top 20 Google Tips & Tricks In Hindi
Top 20 Google Tips & Tricks In Hindi


Google Tips & Tricks :


     हेलो दोस्तों, हम सभी लोग Google का इस्तेमाल सिर्फ किसी चीज को सर्च करने के लिए ही करते है लेकिन Google के कई सारे ऐसे टूल्स और सेटिंग्स है जो आपके काम में मदद करके आपका काम आसान करने में मदद करती है. तो दोस्तों आज में आपको Google के कुछ ऐसे Google Tips & Tricks के बारे में माहिती देना चाहूंगा। जिसे आप हररोज के काम में मदद आ सकता है। और आपका काम बड़ी आसानी से पूर्ण करने में भी सहायता कर सकता है। यह सभी टूल्स और सेटिंग्स के बारे में मालूम भी होना चाहिए।  

 

     तो चलिए दोस्तों Google Tips & Tricks के बारे में जानते है।

 

1. Large number in word :

 

     अब दोस्तों, होता यह है की आप कोई बड़ी संख्या देखते है, या कोई व्यक्ति आपको बड़ी अमाउंट का उच्चारण करने को कहता है, मतलब के कोई भी अमाउंट जैसे की 568974568978 ऐसी कोई अमाउंट दे रखी है, तो आपको इसे शब्दों में लिखना या बोलना कठिन हो जाता है, तो आप यह अमाउंट को Google में लिख कर =english (568974568978=english) करके उसका सही शब्द अंक निकाल कर बोल सकते है, या लिख सकते है। यह स्थिति जब हम कोई बैंक का चेक भरते है, तब हमें पूरी अमाउंट शब्दों में लिखनी होती है, तब हमें यह काम आता है। 

 

2. Online Movie Download :

 

     अगर आपको मूवी देखने का शोख है, तो आप ऑनलाइन मूवी सर्च करते हो इंटरनेट से ऑनलाइन नए नए मूवी डाउनलोड करने की कोशिश करते है, तो बहुत सारे मल्टीपल वेबसाइट में गए होंगे जहाँ पर आपको बहुत सारे Spam लिंक देखने को मिलते है, जहाँ पर आपको हकीकत में मूवी देखने को नहीं मिलता, और नहीं डाउनलोड करने को मिलता, बस आपको वेबसाइट के द्वारा अलग-अलग वेबसाइट पर घुमाया जाता है, लेकिन दोस्तों आप एक ही क्लिक में डायरेक्ट कोई भी नई या पुराणी मूवी को देख सकते है, तो दोस्तों इसके लिए आपको Google पर जा कर मूवी का नाम लिख कर उसके पीछे Google Drive लिख देना है, मतलब के चलो मान लेते है की हमें fast & furious मूवी देखनी है तो fast & furious Google Drive लिख कर सर्च करे। तो सर्च करने के बाद आपको किसी लिंक पर आपको वह मूवी देखने को मिल जाएगी।


     यह भी पढ़े, Whatsapp चलाने के टिप्स  

 

3. Google Mirror Search :

Top 20 Google Tips Tricks In Hindi
Top 20 Google Tips Tricks In Hindi
 

     दोस्तों इसमें आप किसी भी तरह का सर्च करोगे तो एक Mirror में जिसतरह का उल्टा दिखाई देता है, उस तरह आपको सभी चीजे उलटी देखने को मिलती है. इसके लिए आपको Google ओपन करना है उसमे Google Mirror Search लिख कर एंटर होना है, उसके बाद पहली लिंक पर आप जैसे ही क्लिक करोगे तो आप सभी चीजे उल्टे तरीको से देख सकते है। आप कुछ भी Google के सर्च में लिखोगे तो भी उल्टा लिखा कर बता सकता है। 

 

4. Image Details :

 

     दोस्तों अगर आपको किसी फोटो या इमेज के बारे में माहिती चाहिए होती है, तो आप इससे जान सकते हो तो इसके लिए आपको Google का पेज ओपन करना है उसके बाद आपकी राइट साइड पर आपको कैमरा का सिम्बोल दिखेगा उस पर क्लिक करके किसी भी इमेज को अपलोड करके सर्च पर क्लिक कर देना है और आपको उसके बारे में जानकारी प्राप्त हो जाती है। 

 

5. Flight information :

 

     अगर दोस्तों आप हवाई जहाज में ट्रैवलिंग बहुत ज्यादा करते हो, तो इसके लिए आपको फ्लाइट की माहिती चाहिए होती है, तो रोजाना आप फ्लाइट से ट्रैवेलिंग करते रहते हो तो आपको ऐसे में फ्लाइट का स्टेटस चेक करना चाहते हो तो सिम्पल तरीके से आप Google में जा कर उस फ्लाइट का नाम लिख कर सर्च करते है, तो उसकी सभी डिटेल्स आपकी एक ही क्लिक में मिल जाएगी।  


     यह भी पढ़े बेस्ट फ्री एंड्रॉयड ऐप्स

 

6. Google calculator :

 

     आप सोचते होंगे की अब हमारे पास मोबाइल में और कम्प्यूटर में भी केल्क्युलेटर है, तो इसकी क्या जरुरत...? लेकिन दोस्तों आपके केल्क्युलेटर में एक लिमिट होती है, जो बड़े अंको की अमाउंट नहीं बताता तो इसके लिए आप Google का सहारा ले सकते है, इसमें आप को कितना भी बड़े अंक का अमाउंट दी जाए तो भी Google आसानी से उसका पूर्ण जवाब बता देता है। इसके लिए आपको Web Address में जा कर कोई भी संख्या को लिख कर उसे गुना, प्लस, बाद, और डिवाइडेड कर सकते हो भले ही वह कितनी भी बड़ी संख्या हो। आप उसका आसानी से जवाब ला सकते है। 

 

7. Google Find My Device :

 

     इसके बारे में मैंने पहले भी बताया था, Google Find My Device से आप अपने फोन की लोकेशन मालूम कर सकते है। अगर आपका फोन घर में किसी जगह रख दिया है, ओर मिल नहीं रहा होता है तो आप अपने कंप्यूटर में आपके नाम का Email ID ओपन करके गूगल सर्च में Google Find My Device लिख कर सर्च करेंगे तो आप आपके फोन पर रिंग करके पता भी कर सकते है, और इसमें आप लोकेशन का भी पता कर सकते है और इसके साथ अगर आपका फोन गुम गया तथा चोरी हो गया तो भी सरल तरीके से यहाँ चोरी हुए फोन के सभी पर्सनल डेटा डिलीट कर सकते है।

 

8. New link open in new tab :

 

     दोस्तों जब भी आप किसी टॉपिक या चीज के बारे में सर्च करते है तब आपको कई सारी लिक आपको बताता है, तो आप को उन सभी लिंक को बारी-बारी राइट क्लिक करके आप ओपन न्यू टेब पर क्लिक करके आप नए टेब में ओपन करते हो यह तरीका बहुत ही लंबा हो जाता है। अगर आप चाहते है, की मेरे एक ही क्लिक में वह टॉपिक नए टेब में ओपन हो जाए तो उसके लिए आपको Google का पेज खोलना होगा उसके बाद राइट साइड नीचे सेटिंग्स में जाना होगा. उसमे आपको सर्च सेटिंग्स में जा कर Where results open के ऊपर क्लिक कर देना है। तो इससे आप कोई भी लिंक पर एक बार क्लिक करेंगे तो वह सीधे न्यू टेब में ओपन हो जाएगा। उसके लिए आपको राइट क्लिक करके New link open in new tab में जाना नहीं पड़ेगा।

     Open The Google > Go to Settings > Click to, Where results open.

 

9. Pronounce :

Top 20 Google Tips & Tricks In Hindi
Top 20 Google Tips & Tricks In Hindi 

     तो दोस्तों, आपके जीवन में कई ऐसे कई Pronounce आए होंगे जो अच्छी तरह से उच्चारण नहीं कर सकते है। ऐसे कई शब्दों आ जाते है जिनका हमें पता ही चलता की इन्हे कैसे उच्चारण किया जा सकता है...? आप सोचेंगे की किसे जा कर पुछु?, कही वह बोलेगा की तुझे इतना भी नहीं पता...!, ऐसे कह कर मजाक उड़ाएगा तो...? ऐसा सोच कर हम दुविधा में फंस जाते है। तो ऐसे में Google का यह भी एक टूल है जिसे उसका सही उच्चारण कर पाएंगे। तो Pronounce को जानने के लिए आपको पहले Google का पेज ओपन करके उसमे Pronounce के बाद जो कोई भी वर्ड हो उसे लिख कर उसका सही Pronounce जान सकते है। जैसे की Pronounce Meeting लिख कर उस Meeting का Pronounce जान सकते है। जहाँ Meeting के अलावा दूसरा कोई शब्द लिखना है, जिसे आप नहीं जानते।

     Open The Google > Search – (Pronounce Meeting)


10. Google search page top 10 links :

 

दोस्तों आप जब भी किसी चीज को Google पर सर्च करेंगे तो आपको पहले टॉप 10 लिंक ही बताएगा. आप सोचेंगे की सिर्फ 10 ही क्यों बताता है...! इससे ज्यादा क्यों नहीं? तो दोस्तों इसके लिए आपको Google का पेज ओपन करके राइट साइड में नीचे सेटिंग्स में जा कर सर्च सेटिंग्स में Results per page में आपको जितना चाहिए उतनी वेबसाइट की लिंक आप वही से सेटिंग कर सकते हो। 20 सिलेकट किया तो 20 वेबसाइट की लिंक बताएगा, 50 सिलेक्ट करेंगे तो 50 आपको वेबसाइट की लिंक बताएगा।

     Open The Google > Go to Settings > Results per page > Choose the Number For Website Link.

 

11. Childran Settings :

Top 20 Google Tips & Tricks In Hindi
Top 20 Google Tips & Tricks In Hindi 

     तो दोस्तों, जब आपके बच्चे के पास मोबाइल या कंप्यूटर आता है, तो कुछ भी उलटी-सीधी चीजे सर्च ना करे जो 18+ की चीजे है तो इसका भी सेटिंग्स आप कर सकते है। उसके लिए आपको Google का पेज ओपन करना है उसके बाद राइट साइड सेटिंग्स में जा कर सर्च सेटिंग्स पर क्लिक करके SafeSearch Filters में Turn on SafeSearch पर क्लिक कर देना है। जिससे आपका बच्चा 18+ की कोई भी माहिती प्राप्त नहीं कर सकेगा।

     Open The Google > Go to Settings > Search setting > And do SafeSearch Filters Turn On.

 

12. Language :

 

     अगर दोस्तों, आप अपने ही मातृभाषा में सर्च करना चाहते है या फिर आपकी मातृभाषा में ही कोई भी जानकारियां प्राप्त करनी है तो सिम्पल से आप उसके लिए आपको Google का पेज ओपन करना है उसके बाद राइट साइड सेटिंग्स में जा कर सर्च सेटिंग्स पर क्लिक करके Language पर क्लिक करके उसमे आप अपनी मातृभाषा सिलेक्ट और सेव करके आप कोई भी जानकारी मातृभाषा में प्राप्त कर सकते हो।

     Open The Google > Go to Settings > Select Language > Choose Your Language >And Save.

 

13. To find the unknown song :

 

     दोस्तों अगर कही जगह पर जाते है और वहां पर एकदम मस्त गीत सुनाई देता है तो वह गीत को खोजने के लिए सबसे पहले आप Google का पेज ओपन कीजिए वही पर आपको माइक का सिम्बोल दिखेगा उस पर क्लिक करके आप किसी भी गीत को खोज सकते हो, वह 2-3 सेकन्ड का समय लेगा उस गीत को सुनने में, लेकिन उस गीत का आवाज थोड़ा ज्यादा हो तो बेहतर तरीके से वह खोज सकेगा। इसलिए आपको गीत का आवाज थोड़ा ज्यादा रखना होगा। तो इसतरह से आप कोई भी गीत खोज सकते हो।

 

14. Social media account :

 

     अगर दोस्तों किसी व्यक्ति का सोशियल मिडिया का अकाउंट खोजना है, तो आप Google सर्च में कर सकते है उसके लिए आपको Google पेज पर जा कर सर्च बार में उस व्यक्ति का नाम और उसके पीछे @ कोई भी सोशियल मिडिया का नाम लिख कर एंटर करना है, ऐसा करते ही उसके बारे में आपको Google बता देगा की इसका अकाउंट इस सोशियल मिडिया से जुड़ा हुआ है, मतलब Google में कुछ इस तरह लिखना है (Ajit Sharma @facebook/twitter/instagram...etc...)

 

15. To know the complete sentence :

 

     अगर दोस्तों कोई शब्द आपको ठीक से याद नहीं है, या फिर मालूम नहीं है तो आप इस तरह कोई शब्द के बीच में * लगा कर Google में सर्च करके जान सकते है। जैसे की, “गई * पानी में” तो इसमें आपको बीच वाला शब्द नहीं मालूम है तो इस तरह लिख कर आप Google में सर्च करोगे तो आपको संपूर्ण वाक्य बता देगा।

 

16. To find a particular type of file :

 

     दोस्तों होता ऐसा है की आप जब भी कोई चीज के बारे में जानते है उस विषय को या चीज को कोई विशेष प्रकार की फाइल में आपको चाहिए होता है तो विषय या कोई चीज का नाम के बाद filetype: के बाद किसी विशेष फाइल का नाम, जैसे की (exam papers filetype:pdf), इसमें exam papers और pdf की जगह आप दूसरा नाम और फाइल का फॉर्मेट लिख कर आप लिख सकते है इस तरह से सर्च करने से पढ़ भी सकते है और डाउनलोड भी कर सकते है।

 

17. Copying from any photo or document written :

 

     दोस्तों, यह आपको बहुत काम आने वाला है, क्योंकि आप देखते ही होंगे की आपके पास किसी तरह का इमेज होता है, जिस में लिखाई की गयी होती है तो आप वह पढ़ते है और किसी लाइन को कॉपी करने के लिए हम अलग से कही जगह उस लाइन को लिखते है लेकिन अब ऐसा करने की जरुरत नहीं पड़ेगी आप उस इमेज में लिखे हुए शब्दों को आसानी से कॉपी कर है। 

 

     इसके लिए आपको एक छोटा सा ऐप डाउनलोड करना होगा जो Google का ही है जिसका नाम है Google lens इस एप्लीकेशन को अपने फोन में प्ले स्टोर से इनस्टॉल कर लेना है।


     यह भी पढ़े, एंड्रॉयड फोन के कैमरे के बारे में जाने।

 

     उसके बाद Google lens को ओपन करके उस डॉक्यूमेंट या इमेज को स्कैन करना है या फिर आपके फोन की गैलेरी में से इमेज को ला सकते है, आप यह स्कैन करने की तथा ईमेज लाने की प्रोसेस हो जाने के बाद उस इमेज या डॉक्यूमेंट पर लिखे गए शब्दों पर दो बार क्लिक करते ही वह सिलेक्ट हो जाएगा, वही से आप लिखा हुआ कॉपी करके किसी फाइल में यानि Ms Word में या Note में पेस्ट कर सकते है।  इसीतरह से इमेज में लिखे गए शब्दों को कॉपी करके आप अलग से उसको किसी फाइल में पेस्ट करके अपनी लिखाई आसान कर सकते है।

 

18. Google Contacts :

Top 20 Google Tips & Tricks In Hindi
Top 20 Google Tips & Tricks

     अगर आपका फोन किसी कारण से बंध हो गया है, तभी आपको किसी को कॉल करने की जरुरत हो गई, तो ऐसे में आप किसी दूसरे फोन में जो आपके पहचान वाला हो उसके फोन में Google Chrome ब्राउज़र या कोई भी ब्राउज़र ओपन करके उसमे Google के पेज पे जाना है, और Desktop Site पर क्लिक करना है जो ब्राउज़र के थ्री डॉट में होगा। उसके बाद आपको वही पर अपना Email ID Login करके आपके Profile Pic के बाजू में 9 डॉट दिखेगा उस पर क्लिक करके Contacts दिखेगा उस पर क्लिक करते ही आपको मोबाइल के सारे Contacts नंबर आपको दिखा देगा। लेकिन दोस्तों इसका काम ख़तम हो जाने के बाद आपको आपकी Email ID Log Out कर देनी है। और हाँ इसमें आपके फोन का Contacts तभी बताएगा जब आप खुद के मोबाइल में वह Email ID में बैकअप लेंगे। इसी तरह से आप कंप्यूटर में भी कर सकते है।


     Email में बैकअप कैसे लेते है...? यह भी पढ़े

 

19. Google Handwriting :

 

     अगर दोस्तों आपको टाइपिंग नहीं करनी है तो आप Google सर्च इंजिन में अपने हांथो से भी लिख कर सर्च कर सकते है। उसके लिए आपको खुद के मोबाइल में किसी ब्राउज़र को ओपन करके Google का पेज खोलना है उसके बाद लेफ्ट साइड ऊपर थ्री सेटिंग्स वाली लाइन दिखाई देगी उस पर क्लिक करके सेटिंग्स में जाना है, उसके बाद Handwritten वाले ऑप्सन को Enable कर देना है। और आखिर में सेव कर देना है फिर आप अपने हांथो की उंगली से कोई भी शब्द लिख कर सर्च कर सकते है।

 

20. Search History :

 

     अगर दोस्तों आपका कंप्यूटर या लैपटॉप किसी ने इस्तेमाल किया है, और आपको मालूम करना है की उसने कौन-कौन सी चीजे से सर्च किये है...? इंटरनेट पर, तो इसके लिए हम सिंपल से ब्राउज़र ओपन कर के उसकी हिस्ट्री में जाते है. लेकिन जिसने व्यक्ति ने आपका कंप्यूटर या लैपटॉप इस्तेमाल किया उसने सभी हिस्ट्री को डिलीट कर दी तो आप कैसे जान पाओगे..? की इसने मेरे कंप्यूटर या लैपटॉप में कौन-कौन सी चीजे सर्च करी...?, तो दोस्तों आपके पास एक और ऑप्सन है जो आप कर सकते हो, तो उस हिस्ट्री को जानने के लिए आपको Google का पेज ओपन करना है, उसके बाद Google के सेटिंग्स में जाना है वही पर आपको सर्च हिस्टी आपको बता देगा, और आपको मालूम चल जाएगा की, उसने मेरे कंप्यूटर में यह चीज सर्च किया। लेकिन इसमें आपका Email ID ओपन होना चाहिए। 

 

     तो दोस्तों, आशा रखता हूँ की यह Google Tips & Tricks आपको किसी काम में मदद करेगी। और आपका काम आसान करने में मदद करेगी।

 

     आपका धन्यवाद...। 🙏🙏

शनिवार, 5 दिसंबर 2020

Sim Swap Fraud Se Kaise Bache?

 

Sim Swap Fraud
Sim Swap

Sim Swap Fraud :


     हेलो दोस्तों, आज आपको Sim Swap के बारे में बताना चाहूंगा। इसके बारे आपको पता ही होगा की Sim Swap होता क्या है...? और कैसे किया जा सकता है...? लेकिन इससे होने वाले फ्रॉड के बारे में आपको माहिती देना चाहूंगा की किस तरह फ्रॉड व्यक्ति Sim Swap से आपको धोखा दे सकता है...? और इससे कैसे बचा जा सकता है...?

 

     तो चलिए पहले Sim Swap क्या है…? उसके बारे में जानते है।

 

     तो दोस्तों Sim Swap का मतलब अभी आपके पास जो कोई भी सिम कार्ड है चाहे वह Airtel हो, Vodafone का हो या फिर कोई अन्य सर्विस प्रोवाइडर का सिम आप इस्तेमाल कर रहे होते है, और उस सिम कार्ड को किसी कारण से बंध या ब्लॉक करके आप नया सिम वही नंबर से लेना चाहते हो तो हम उसे आसान भाषा में Sim Swap कहते है।

 

Sim Swap से कैसे फ्रॉड होता है...?

 

     तो दोस्तों यहाँ पर हैकर यही तरीके का इस्तेमाल करता है, और वह आप जो भी अभी सिम कार्ड इस्तेमाल कर रहे होते है, उसे फ्रॉड व्यक्ति ब्लॉक करवा लेता है, या फिर बंध करवा लेता है, और उसके बाद फ्रॉड व्यक्ति आपके नंबर का नया सिम ले लेता है, जिस वजह से फ्रॉड करने वाले व्यक्ति के पास सभी कण्ट्रोल आपके आ जाते है, मतलब के आपके फोन पर कोई भी कॉल आएगा, कोई भी OTP आएगा तो सीधे नए सिम कार्ड में आएगा, यानि के फ्रॉड व्यक्ति के पास जाएगा, इससे वह आसानी से आपके सभी बैंक अकाउंट को चुटकीओ में साफ कर सकता है। और आपको पता भी नहीं चलेगा की मेरा सभी पैसा बैंक से गायब हो गया। क्योंकि, आपका जो नंबर है वह फ्रॉड व्यक्ति ने बंध करा लिया है. आप तभी कुछ नहीं कर पाएंगे और जब आपको मालूम होगा तब बहुत देरी हो गयी होगी।


UPI से होने वाले धोखे से कैसे बचे ? यह भी जानिए

 

     तो दोस्तों, फ्रॉड व्यक्ति पहले आपकी सभी पर्सनल माहिती किसी तरह जान लेता है फिर बाद में आपका सिम ब्लॉक करवा कर आपके नंबर से नया सिम खरीद कर इस्तेमाल करने लगता है।

 

     यह फ्रॉड करने वाले व्यक्ति हमारे ही नंबर से किस तरह वह नया सिम खरीद सकता है…? उसके बारे में जानते है.

 

     तो दोस्तों, इसमें यह होता है, की इसके लिए वह कई सारे तकनीक या तरीके का इस्तेमाल करता है, जैसेकि मोबाइल नंबर पोर्टिब्लिटी, फोन कॉल की मदद से, या फिर किसी भी तरह की हैकिंग टेक्निक की वजह से कर सकता है, Sim Swap की प्रक्रिया में सबसे पहले आपकी पर्सनल माहिती को निकालने की कोशिश करता है, जैसे की आपका सम्पूर्ण नाम क्या है...?, आपका असल में मोबाइल नंबर कोनसा है...? जो सभी बैंक अकाउंट से लिंक है, आपका बैंक में रजिस्टर ईमेल, आधार कार्ड नंबर और इसके आलावा बैंकिंग डिटेल्स आदि-आदि महत्वपूर्ण माहिती फ्रॉड व्यक्ति जान लेता है।

 

     तो फ्रॉड व्यक्ति आपके सोशियल मिडिया से डिटेल्स जान सकता है, या फिर फ्रॉड व्यक्ति ने आपके फोन या कंप्यूटर सिस्टम में किसी प्रकार का एप्लीकेशन इनस्टॉल कर रखा है तो वही से सभी माहिती जान सकता है, इसके अलावा काफी सारे तरीके होते है जिससे वह आपके नंबर से नए सिम खरीदने के लिए जो आपका पर्सनल प्रूफ चाहिए होता है. वह आपसे किसी तरह ले लिया हो तो फ्रॉड व्यक्ति आपके नाम से डुबलीकेट प्रूफ भी बना कर आपके साथ धोखा कर सकता है।

 

     तो इस तरह से आपकी माहिती जानने के बाद आप अभी जो सिम कार्ड इस्तेमाल कर रहे होते है फ्रॉड व्यक्ति उसे आपके सर्विस प्रोवाइडर कंपनी में कॉल करके कहता है की मेरा मोबाइल चोरी हो गया है, ऐसा कोई भी कारण बता कर आपके सिम को ब्लॉक करवा लेता है, और नया उसने डुबलीकेट आपका पहचान प्रूफ जोड़ कर नया सिम कार्ड ले कर वह इस्तेमाल करने लग जाता है। तो इस तरह से आपके साथ धोखा कर सकता है।

 

e-SIM धोखे से कैसे बचे...? यह भी जानिए.


     इसके आलावा फ्रॉड व्यक्ति हो सकता है की एक कस्टमर केर वाला बन कर आपके पास से सभी माहिती जान लेता है. वह ऐसे बाते करेगा की आपको लगेगा, की यह हमारे सर्विस प्रोवाइडर, बैंक मैनेजर, या कोई कंपनी का कस्टमर केर वाला ही बोल रहा है। तो यह समझ कर आप उसे अपनी सभी माहिती दे देते है। तो यहाँ पर फ्रॉड व्यक्ति बोलता है की आपके अकाउंट को अपडेट करने के लिए आपके फोन नंबर पर एक OTP आएगा वह OTP मुझे बताइएगा. इस तरह से आपको कन्विंस कर लेता है और आप OTP बता देते है एक बार उस फ्रॉड व्यक्ति के पास आपका OTP चला गया तो आप बड़ी मुश्केली में फंस जाते है।

 

Sim Swap से होने वाले धोखे से बचने का तरीका :


  1. तो दोस्तों, इसके लिए आपको कभी भी किसी अनजान आदमी को छोटी से छोटी माहिती भी ना दे, और फोन पर तो कभी भी किसी को आपके पर्सनल प्रूफ ना भेजे, और बताना भी नहीं है. क्या पता आप फोटो व्हाट्सएप करते हो तो उसमे एडिट करके नया डुबलीकेट बनवा ले...? इस लिए किसी को ना भेजे और ना ही बताए।                                                                                                                                           
  2. आपको किसी भी पर्सनल माहिती को सोशियल मिडिया के प्रोफइल में रजिस्टर नहीं करनी है।                                 
  3. किसी का भी कॉल आये चाहे वह हमारे देश के राष्ट्रपति जी का कॉल आपके ऊपर क्यों ना आजाए लेकिन आपको अपनी किसी भी प्रकार की पर्सनल माहिती देनी नहीं है।                                                                   
  4. बैंकिंग डिटेल्स भी किसी कॉल पर या हमारे सामने भी खड़ा क्यों ना हो किसी अनजान व्यक्ति को नहीं बतानी चाहिए।                                                                                                                                          
  5. अगर आपके नंबर पर तथा ईमेल पर किसी तरह की लिंक को प्रेस या क्लिक करने को कहते है, तो भी ना करे उसे तुरंत डिलीट कर दे, और किसी भी तरह के स्टेप्स का अनुसरण ना करे, वही पर किसी भी तरह की माहिती ना बताए। अगर आपको लगता है की क्लिक करके तो देखु क्या आता है में देखु तो सही, तो दोस्तों इसमें यह भी हो सकता ही की अगर आप उस लिंक पर क्लिक करते हो तो आपके सिस्टम या फोन में एक वायरस घुस कर आपके सिस्टम को अटका सकता है तथा पीछे से कोई एप्लीकेशन इंस्टाल करके आपका मोबाइल या सिस्टम ऑपरेट करने लगे। और आपको पता भी नहीं चलेगा। इसलिए कोई जोखम नहीं उठाना चाहिए सिर्फ उस मेसेज को डिलीट कर दे।                                                                               
  6. किसी भी अनजानी वेबसाइट में अपनी किसी भी प्रकार की पर्सनल माहिती भरनी नहीं चाहिए। या फिर कोई ऐसा एप्लीकेशन जो किसी भी प्रकार से अविश्वसनीय होती है, उसमे किसी भी प्रकार की पर्सनल माहिती नहीं भरनी चाहिए।                                                                                                                    
  7. अगर आपको किसी भी तरह का कॉल आता है जैसे की, सिम कार्ड पोर्टेब्लिटी करवाना, अकाउंट उपडेट करवाना तो आप उसे किसी भी तरह की पर्सनल माहिती ना दे, आप सीधे-सीधे उसके स्टोर चले जाए या आप के नजदीक की किसी बैंक शाखा में आप खुद जा कर तलाश करे। लेकिन आपको मोबाइल फोन से या कंप्यूटर से किसी को भी किसी भी प्रकार की माहिती नहीं भेजनी है। 

 

Sim Swap Conclusion :


     तो दोस्तों, उम्मीद रखता हूँ की, इस Sim Swap Fraud में कैसे फंस सकते है...? उसकी जानकारी से आप समझ गए होंगे, और यह जानकारी से आप जागृत होंगे और सुरक्षित रहेंगे और दुसरो को भी सुरक्षित रखने के लिए प्रेरित करेंगे।

 

     जय हिन्द... जय भारत...

 

     आपका धन्यवाद...।🙏🙏

शुक्रवार, 4 दिसंबर 2020

UPI से होने वाले धोखे से कैसे बचे ?

UPI, UPI Account
Online Fraud


किस तरह आपके साथ UPI से धोखा किया जा सकता है...?:


     हेलो दोस्तों, UPI अकाउंट से फ्रॉड व्यक्ति आपके साथ किस तरह धोखा किया जा सकता है...?, तो उसके बारे में जान कर आप जागृत हो सके उसके लिए यह माहिती आपको बताना चाहूंगा।  

 

     तो दोस्तों, UPI वह इंस्टंट मनी ट्रान्सफर करने के लिए बहुत ही अच्छा चैनल है, लेकिन इसका भी इस्तेमाल फ्रॉड व्यक्ति निर्दोष व्यक्ति के साथ धोखेबाजी करने के लिए इस्तेमाल करने लगे है, UPI के बहुत सारे एप्लीकेशन है जैसे की, Phonepe, BHIM, BHIM SBI Pay, G Pay (Tez) जैसी अलग-अलग ऍप्लिकेशन्स है जो इंस्टंट मनी ट्रान्सफर के लिए इस्तेमाल की जाती है, तो इससे इस्तेमाल करने से पहले आपको बहुत ही सतर्कता रखनी जरुरत है.

 

     तो दोस्तों जब भी UPI की ओर से कोई कॉल आता है, या UPI के द्वारा कोई मैसेज आता है, जिसमे आपको यह बोला जाता है की, आपका जो UPI का Coded Message है उसको कही फॉरवर्ड करने को कहेगा तो आपको कभी यह Coded Message फॉरवर्ड नहीं करना है। अगर आपने उस Coded Message को फॉरवर्ड करते है, तो आपके साथ पैसो का धोखा हो सकता है।

 

     UPI का जो Coded Message है, वह मैसेज अपने में एक लिंक ले करके आता है, जो आपके मोबाइल सिम को फ्रॉड व्यक्ति के सिम के साथ जुड़ जाता है, अब जुड़ जाने के बाद वह फ्रॉड व्यक्ति के पास आपके सभी बैंक अकाउंट को उसके सिस्टम में जोड़ लेता है, और आपके साथ UPI फ्रॉड करता है।

 

    दूसरा तरीके से भी UPI फ्रॉड आपके साथ हो सकता है, जो फ्रॉड व्यक्ति होता है वह आपका जो ग्लोबल एड्रेस होता है उस एड्रेस में आपका मोबाइल नंबर, आधार कार्ड नंबर, बैंक अकाउंट नंबर होता है, और वर्चुअल एड्रेस में 123*****456@sbi /  456****458@pnb इस तरह का होता है. तो इस तरह का एड्रेस जान लेता है, फिर फ्रॉड व्यक्ति आपके नंबर का मोबाइल लॉस होने का कम्प्लेन पुलिस ठाणे में करवाता है, उसके बाद फ्रॉड व्यक्ति आपके नाम से नया सिम निकाल लेता है। जिसे आसान भाषा में सिम स्वेपिंग भी कहते है, उसके बारे में अगली पोस्ट में जानकारी बताऊंगा, तो आपके सभी माहिती उसके पास होती है, जिसे इस्तेमाल करके आपके सभी बैंक अकाउंट में पैसे है वह अलग-अलग ट्रांजेक्शन करके आपके सभी पैसो को चुरा लेता है।


UPI फ्रॉड से बचने के लिए टिप्स :


  1. यदि UPI की ओर से तथा किसी अनजान व्यक्ति से कोई Coded Message आपके नंबर पर आता है, तो उस कॉड को कभी भी फोरवड़ ना करे। अगर आप गलती से भी फोरवड़ करते है, तो आप ढगी के शिकार हो जाते है।
  2. अगर आपको यह Coded Message फोरवड़ करने को कहते है आप अपने पास वाली कोई भी बैंक ब्रांच में जा कर अपना बैंक अकाउंट ब्लॉक करवा ले, क्योंकि, आपकी माहिती फ्रॉड व्यक्ति के पास पहुंच चुकी है जो किसी भी समय आपका मोबाइल नंबर बंध करवा के आपके बैंक में से पैसो की ढग कर सकता है।

    उसके बाद आप पुलिस को रिपोर्ट लिखवा दे और पुलिस अधिकारी का और बैंक अधिकारी का नंबर आपके पास ले करके रखे।                                                                                                                   
  3. अभी-अभी UPI का नया अपडेट वर्जन आया है उसमे आप १ लाख तक का ट्रांजेक्शन कर सकते है जो बहुत बड़ी अमाउंट है, तो आपके मोबाइल का नेटवर्क अच्छा नहीं आता है तो उस जगह कभी भी किसी को पैसे ट्रान्सफर ना करे।                                                                                                                 
  4. UPI में आपका पैसा फंस गए है, तो आप सीधे बैंक के कस्टमर केर में कॉल करके कम्प्लेन लिखवाए।        
  5. और सबसे महत्वपूर्ण बात आप कभी भी किसी भी कंपनी या बैंक का कस्टमर केर नंबर Google पर सर्च ना करे क्योंकि, इसमें भी फ्रॉड करने वाला व्यक्ति उसका नंबर कस्टमाइज़ करके रखता है। और आप उस नंबर पर कॉल करते है तो आपसे वह सभी माहिती ले कर भी फ्रॉड कर सकता है।                                  
  6. अगर आपको लगता है, की आप ढगी के शिकार हो रहे है, और किसी अनजान व्यक्ति आपको UPI ट्रान्सफर करने को कहता है, और अनजान नंबर से आपको मेसेज आता है, तो सीधे आप पुलिस स्टेशन में रिपोर्ट लिखवा दे। तो दोस्तों, इस तरह के फ्रॉड के जिम्मेदार बैंक नहीं होती, इसके लिए जिम्मेदार जिसने कॉड फोरवड़ किया है वही होता है और वही ढगी का शिकार होता है। 


UPI Account Conclusion :


     तो दोस्तों, आशा रखता हूँ के UPI  की इस जानकारी से आप समझ गए होंगे, की किस तरह फ्रॉड व्यक्ति UPI से आपके साथ चीटिंग कर सकता है... और इस माहिति से आप सेफ, ओर सिक्योर रहेंगे।

 

     जय हिन्द... जय भारत... 


     आपका धन्यवाद...।🙏🙏

गुरुवार, 3 दिसंबर 2020

Google DOC से कैसे आप फ्रॉड के शिकार हो सकते है...?

 

Google DOC, Google Document
Google DOC

Google DOC से सावधान रहे :


     हेलो दोस्तों, आज आपको Google DOC से किस तरह से आपके साथ फ्रॉड किया जा सकता है...? उसके बारे में बताना चाहूंगा। मेरी आपसे विनती है की यह जानकारियां जो कुछ भी दी जा रही है वह आम जनता को जागृत करने के लिए दी जा रही है, अगर आप इस जानकारी का गलत इस्तेमाल करेंगे तो आप साईबर क्राइम के गुन्हे में आ सकते है इसलिए इस जानकारियां को जान कर सैफ और सिक्योर रहे, और इस जानकारियां से कोई भी गलत कार्य ना करे।

 

     तो दोस्तों, चलते हे हमारे Google DOC से कैसे आपके साथ धोखा किया जा सकता है....?

 

     अब काफी सारे लोग जानते ही होंगे की अबसे अपना पर्सनल डॉक्यूमेंट, ID Proof, और OTP को शेर नहीं करना है। और Anydesk, Teamviewer जैसे रिमोट एप्लीकेशन का इस्तेमाल नहीं करना है, तो फ्रॉड व्यक्ति को यह मालूम हो गया है, तो वह एक स्टेप की और आगे बढ़ गया वह अब Google DOC से फ्रॉड करने लगा है।

 

Google DOC :

 

     तो Google DOC जिसका पूर्ण नाम Google Document है, जिसे आप अपने मोबाइल में Google Play Store पर आसनी से मिल जाता है। इसमें फ्रॉड करने वाला व्यक्ति उसके माध्यम से एक लिंक आपको SMS करते है, और SMS आने वाले नंबर और उसकी लिंक ऐसी होती है, जो दिखने में बिलकुल कंपनी जैसी और सैफ लगती है। उस मेसेज में कुछ इसतरह का Thanks for alerting us. We are Sorry for the inconvenience. Please click the link below. लिख कर भेजते है, और नीचे दी गई लिंक पर आप क्लिक करते है, जैसे ही उस लिंक पर क्लिक करते है, तो आपको उसमे फॉर्म भरके सबमिट करने को कहता है, और उस फॉर्म में निर्दोष व्यक्ति उसकी सभी पर्सनल डिटेल्स में मोबाइल नंबर, बैंक की माहिती, सभी कार्ड के नंबर के साथ-साथ सभी माहिती भेज देता है, इसमें आपको OTP लिखने को नहीं कहेगा, और इसमें आपको वेरिफाई ट्रांजेक्शन पासवर्ड और Bank ID भी भरवाएगा। अब आपने यह सभी माहिती भूल कर भी भेज दी, तो आपके साथ किसी भी प्रकार का धोखा हो सकता है, और लोगो के साथ धोखा होता भी है। तो दोस्तों यह जो निर्दोष व्यक्ति ने भरा हुआ फॉर्म उस फ्रॉड करने वाला व्यक्ति के पास जाता है, और वह निर्दोष व्यक्ति को लगता है, की यह फॉर्म मेने कंपनी में भेजा है। 

 

     तो दोस्तों, अब वह फ्रॉड व्यक्ति आपके नेट बैंकिंग का इस्तेमाल करके फॉरेन (परदेश) में आपके पैसे ट्रान्सफर करेगा इसमें आपके OTP की जरुरत नहीं होती है। क्योंकि, फ्रॉड करने वाला व्यक्ति आपके मोबाइल नंबर को हैक करके आपको बिना पता चले उसको OTP मालूम हो जाता है। तो इसतरह से आपके बैंक अकाउंट को खाली कर सकता है, तो इस तरह एक निर्दोष व्यक्ति उसने पूरी जिंदगी मेहनत से कमाए हुए पैसे एक पल में वह फ्रॉड व्यक्ति चुरा लेता है, और आप ठगी के शिकार हो जाते है। - Google DOC

 

Google DOC Conclusion :

 

     तो दोस्तों में यह कहना चाहूंगा की किसी अनजान जगह या व्यक्ति को आप खुद की पर्सनल माहिती, आपका पहचान प्रूफ, बैंक की कोई माहिती, किसी डेबिट या क्रेडिट कार्ड की माहिती, नेट बैंकिंग का ID और पासवर्ड, आपने बैंक में रजिस्टर किया हुआ मोबाइल नंबर और E-mail ID, आदि-आदि माहिती को लिख कर और कह कर किसी अनजान व्यक्ति को ना बताए। इसके आलावा आप सोशियल मिडिया ऍप्लिकेशन्स में रजिस्टर करने के लिए भी अपना बैंक अकाउंट वाला E-mail ID और मोबाइल नंबर से रजिस्टर नहीं करे, आप किसी दूसरी E-mail ID और दूसरे मोबाइल नंबर का इस्तेमाल करे, जो आपने खुद ने बनाई हो. - Google DOC  

 

     तो दोस्तों, आशा रखता हूँ, की इस जानकारी से आप समझ गए होंगे और इस माहिती से सुरक्षित भी रहेंगे।

 

     जय हिन्द, जय भारत…

 

     आपका धन्यवाद....।🙏🙏

बुधवार, 2 दिसंबर 2020

e-SIM धोखे से कैसे बचे...?

E-SIM, esim
ESIM


E-SIM Fraud :

     हेलो दोस्तों, आपने अभी के समय में E-SIM के बारे में जानते ही होंगे। तो दोस्तों इसमें भी फ्रॉड व्यक्ति आपके साथ कैसे धोखा कर सकता है...?, उसके बारे में जानते है।

 

     दोस्तों स्टेप बाय स्टेप समझेंगे ताकि आप अच्छे से और आसानी से समझ सके।

 

तो मूलरूप से यह E-SIM होता क्या है...?

 

     आज से दोस्तों, 20 साल पहले एक सिम कार्ड आता था, जो फिज़िकल सिम कार्ड था, जो 2014 के बाद बदल कर उससे छोटा कर दिया गया और समय-समय पर उससे भी छोटा करते गए और अभी के समय में सिर्फ जो तांबे का जितना भाग है उतना ही हो गया है, जैसे की, 1993 में Mini Sim, 2003 में Micro Sim, 2012 में Nano Sim, और 2014 में E-SIM और अभी-अभी नए ज़माने के हाई रेंज वाले फोन में यह E-SIM का वाला सिस्टम बनाया गया है। तो यह E-SIM एक वोडाफोन (VI) और एयरटेल कंपनी के पास ही उपलब्ध है।

 

     तो दोस्तों इसमें एक फिज़िकल सिम होता है और एक E-SIM होता है, तो दोस्तों यह E-SIM हाई रेंज के फोन में ही इस्तेमाल होते है। जैसे की iPhone 10 में इस्तेमाल किया जाता है। उस फ़ोन में दोनों ऑप्सन मिलते है एक सादा वाला सिम और यह E-SIM.

 

E-SIM को Setup कैसे करते है...? :

 

     आपका जो फोन है, तो इसके लिए आपको पहले फोन के सेटिंग्स में जाना है, उसके बाद सेल्युलर में जाना होता है, उसके बाद सर्विस प्रोवाइडर का प्लान सेटअप करना होता है, सर्विस प्रोवाइडर यानि के वोडाफोन या एयरटेल कंपनी, उसके बाद QR Code Scanning करना होता है, तो यह QR Code कहाँ और कैसे आता है...? उसके बारे में आगे बताऊंगा, अभी यह अच्छे से समझ लेते है, तो QR Code Scanning होने के बाद प्लान को जोड़ना होता है, उसके बाद उस नंबर को Primary नंबर की तरह इस्तेमाल कर सकते है यह नंबर शारीरिक से डालना होता है, उसके बाद जो QR Code है वह ऑटोमॅटिकली आपका Primary नंबर ले लेगा, और आपके फोन में अलग से Virtual Sim इनस्टॉल हो जाता है उसमे शारीरिक तरीके से करना नहीं पड़ता, उसके बाद आप अपना नंबर सेटअप करके इस्तेमाल कर सकते है। अगर आपको यह तरीके में समज नहीं आया तो इसका दूसरा तरीका भी है, उसे जानते है। - E-SIM

 

E-SIM का दूसरा तरीका :

 

     पहले अपने खुद के फोन में सेटिंग्स में जा कर, मोबाइल डेटा में जाइए, उसके बाद Add Plan Data, और QR Code Scan करना होगा। QR Code आपने दी हुई Email ID पर आता है। आप वही से स्कैन करके इस्तेमाल कर सकते है। E-SIM

 

 

E-SIM फ्रॉड कैसे होता है...? :

 

     अब इसमें दोस्तों, एक फ्रॉड करने वाला व्यक्ति होता है जो एक व्यक्ति उसके फोन पर अपना Email SMS के जरिए भेजता है। वह Email ऐसा लिखा होता है की आपको लगता है की, यह Email और SMS आने वाला नंबर सर्विस प्रोवाइडर कंपनी का ही लगेगा, और आप वही Email ID आप सर्विस प्रोवाइडर को भेज देते है। तो सर्विस प्रोवाइडर वोडाफोन या एयरटेल कंपनी वाले उस Email ID पर QR Code Scan करने के लिए भेज देता है। और फ्रॉड व्यक्ति आपके मोबाइल नंबर रजिस्टर करवा कर खुद के मोबाइल में इस्तेमाल करने लग जाता है। उसके बाद आपका जो नंबर है वह बंध यानि सर्विस बंध हो जाती है और आपको लगता है, की शायद २४ घंटे या कुछ घंटे में यह E-SIM शुरू हो जाएगा। तो आपका नंबर फ्रॉड व्यक्ति के पास सक्रिय हो गया और वह आपके बैंक अकाउंट से सभी पैसे निकाल देगा। और आपको मालूम भी नहीं होगा। क्योंकि उसका ट्रांजेक्शन OTP तो उस फ्रॉड व्यक्ति के पास जाएगा और बैंक वालो का मेसेज भी उसी नंबर पर जाएगा जो फ्रॉड व्यक्ति के पास रजिस्टर है। E-SIM

 

     फ्रॉड व्यक्ति आपके बैंक में सभी पैसे को मल्टिपल चैनल से आपके पैसे ट्रान्सफर करते है, पैसे निकाल ने के लिए E-wallet का इस्तेमाल करते है ऐसे कई सारे मल्टिपल ट्रान्जेक्सन करते है जिससे फ्रॉड व्यक्ति को पकड़ नहीं पाते है। 

 

E-SIM Fraud Conclusion :

   

     अब दोस्तों, आप सोच रहे होंगे की उन व्यक्ति का मोबाइल नंबर फ्रॉड के पास आया कैसे होगा...?, उसको मालूम कैसे होता होगा की यह बन्दे के पास यह हाई रेंज का फोन है, और वह E-SIM के लिए अप्लाई करने वाला है...? आदि-आदि। E-SIM

 

     आपको बताऊ तो जब आप किसी ऑनलाइन शॉपिंग करते है और ऑर्डर करते है तो डिलीवरी के समय किसी अनजान व्यक्ति के पास ना चला जाए तथा डिलीवरी करने वाले को आपका एड्रेस नहीं मिलता तो आपका नंबर देख कर वह कॉल करके आप अपना एड्रेस बता सकते है। अब आपकी प्रोडक्ट मिलने के बाद कुछ लोग ऐसे होते है की उसका जो पैकिंग होता है, उसको नष्ट किए बिना ही कचरे में दाल देते है तो जब आप वह पैकिंग कचरे में डालते है उसमे आपका, नाम, नंबर आपके घर का एड्रेस लिखा होता है। तो आप उसे नष्ट किए बिना ही कचरे मे फेंक देते है तो सामने वाले को तो आपके बारे में पूरी जानकारी मिल जाती है। और वही से आपके साथ चीटिंग होने की शुरुआत होती है। E-SIM

 

     आज के समय में ऐसी टेक्नोलॉजी भी आती है, जिससे कोनसा  नंबर किस डिवाइस चल रहा है...? उसकी भी जानकारी देता है। तो उस माध्यम से भी आपको एक फ्रॉड व्यक्ति आपको ट्रेक करके आपसे फ्रॉड कर सकता है।


     तो दोस्तों, जब भी आप E-SIM के लिए किसी भी सर्विस प्रोवाइडर को ईमेल भेजते है या E-SIM एक्टिव करवाते है तो सावधानी पूर्वक एक्टिव करवाए।

 

     तो दोस्तों, उम्मीद रखता हूँ के यह जानकारी आपको समझ आई होगी। और आप इस जानकारी से सुरक्षित रहेंगे। कृपया यह जानकारी अपने दोस्तों और परिवार में भी कह कर आप और अपने सभी को जाग्रत कीजिए। E-SIM

 

     आपका धन्यवाद...।🙏🙏